Tuesday, 17 December 2013

हिंदी में शायरी

हिंदी में शायरी



धीरे धीरे ये ज़ख़्म भी भर चले हैं!
कुछ कमी दर्द मैं भी आई है !
कुछ सुलगना कम हुआ है ,
कुछ अंगारो ने ठंडक पाई है !
अब फूल खिलने का समय है,
अब मौसम बहारो का आने को है ,
अब जान जिस्म मैं लौटी है ,
अब जीने की वजह पाई है !

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.