Friday, 3 January 2014

हिन्दी शायरीया

हिन्दी शायरीया

हमारें आंसू पोछकर वो मुस्कुराते हैं;
इसी अदा से तो वो दिल को चुराते हैं;
हाथ उनका छू जाए हमारे चेहरे को;
इसी उम्मीद में तो हम खुद को रुलाते हैं!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.