Monday, 6 January 2014

सेर शायरि

ए तुफां तु ले ले मेरा इम्तिहां;
यहीं डटा हूं यहीं डटा रहूंगा;
आजमा ले तु अपनी ताकत जी भर के;
तेरा हौंसला मैं झुका के रहूँगा।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.